एनपीएस कर्मचारियों के साथ बे-इंसाफ़ी : वेतन 70 हज़ार फिर भी पेंशन सिर्फ 528 रुपये


न्यू पेंशन स्कीम योजना में कर्मचारी ठगे से महसूस कर रहे हैं। यानी 70 हजार वेतन के बाद भी उन्‍हें पेंशन के रूप में 528 रुपये अगर महीने के म‍िल रहे हों, तो इसे क्‍या कहें?…

pension-to-nps-employee-very-low
बेइंसाफी ! वेतन 70 हजार, पेंशन लगी 528 रुपये

प्रदीप शर्मा, नूरपुर। जिस पेंशन के सहारे सेवानिवृत्त कर्मचारी अपना बुढ़ापा काटने की सोचते थे, आज वही पेंशन उनके लिए टेंशन बन गई है। न्यू पेंशन स्कीम ने कर्मचारियों के सपनों को तोड़ दिया है। 70 हजार रुपये मासिक वेतन पर नौकरी करने वाले अधिकारी को केवल एनपीएस के कारण 528 रुपये पेंशन सेवानिवृत्ति के बाद लगी है। यानी सामाजिक सुरक्षा पेंशन से भी कम। ऐसे में बुढ़ापे में कर्मचारियों को अपने परिवार का पालन पोषण करना पहाड़ जैसी चुनौती बन गया है।
न्यू पेंशन स्कीम कर्मचारी संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. संजीव गुलेरिया ने एनपीएस को बंद कर पुरानी पेंशन स्कीम को लागू करने के आंदोलन की शुरुआत की। गुलेरिया स्वयं आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी के रुप में सेवानिवृत हुए नौकरी के दौरान 70 हजार रुपये मासिक वेतन मिलता था, लेकिन अब पेंशन 528 रुपये मासिक पेंशन मिल रही है। डॉ. संजीव गुलेरिया ने बताया कि न्यू पेंशन स्कीम कर्मचारियों से एक धोखे समान है जिसका पता सेवानिवृत होने पर चल रहा है।
उन्होंने बताया कि सेवानिवृत होने पर उन्हें 528 रुपये, आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी डॉ. ओके जैदका को 462 रुपये, कला अध्यापक धर्म चंद सैनी को 800 रुपये व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी रतनी देवी को 500 रुपये मासिक पेंशन मिल रही है। एनपीएस कर्मचारी विरोधी है, सरकार कर्मचारियों के जीपीएफ का निजी कंपनियों में निवेश कर रही है व सेवानिवृत होने पर 60 फीसदी जीपीएफ कर्मचारी को दिया जा रहा है व शेष 40 फीसद राशि का ब्याज पेंशन के रूप में में मिल रहा है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि सरकार ने जल्द ही पुरानी पेंशन योजना बहाल न की तो आने वाले लोकसभा चुनाव में उन्हें इसका खमियाजा भुगतना पड़ेगा।
Read also :  SPARROW for CSCS Officials - DoPT OM dated 4.4.2019
भूख हड़ताल में शामिल होंगे धर्मशाला खंड के कर्मचारी 
धर्मशाला : न्यू पेंशन स्कीम कर्मचारी महासंघ के धर्मशाला खंड की बैठक जिला परिषद हाल में हुई । बैठक की अध्यक्षता कांगड़ा जिला प्रधान राजिंद्र मन्हास ने की। बैठक में पेंशन बहाली को लेकर 28 अक्टूबर को पालमपुर में होने वाली भूख हड़ताल पर रणनीति तय की गई। राजिंद्र मन्हास ने पालमपुर में शुरू होने वाली इस भूख हड़ताल में धर्मशाला खंड से भी कर्मचारी भाग लेंगे। बैठक में धर्मशाला ब्लॉक प्रधान मंजीत कुमार, प्रधान सपन देव, महासचिव गोपाल प्रधान, राज्य उपप्रधान सुभाष शर्मा, राज्य महिला ¨वग सचिव ज्योतिका मेहरा, राजपत्रित कर्मचारी महासंघ के जिला प्रधान विनय गुलेरिया, महासचिव नारायण, अनीश धीमान, वन विभाग से नवीन, शिक्षा विभाग से भरत ¨सह जरयाल के साथ विभिन्न विभागों से कर्मचारी उपस्थित रहे।
Source: Dainik Jagran
Read also :  Introduction of Annual Performance Appraisal Report (APAR) for Multi Tasking Staff (MTS).

https://www.facebook.com/stafftoday
https://feedburner.google.com/fb/a/mailverify?uri=blogspot/jFRICS&loc=en_US
https://twitter.com/stafftoday

COMMENTS